loading...

आज का ब्लॉग मैं मोदीजी के जुमले के ऊपर से लिख रही हूँ।

मोदीजी ने सदा ही बडे-बडे जुमले दिए है जनता के बीच जाके। कुछ लोगों की टीम तैयार करती है जुमले, जो नरेंद्र मोदी की जुबां से निकलते ही हो जाते हैं मशहूर। इस टीम के मुख्य सदस्य हैं :-

1. जगदीश ठक्कर,
2. यश गांधी और नीरव के. शाह
3. हिरेन जोशी (ओएसडी-आईटी
4. प्रतीक दोषी (ओएसडी- रिसर्च एंड स्ट्रैटजी)

आइये उनके 2014 के चुनाव से अब तक मुख्य जुमलो पर नजर डालते हैं।

56इंच का सीना :

2014 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश की एक रैली में कहा था कि उत्तर प्रदेश को गुजरात बनाने के लिए 56 इंच का सीना चाहिए। उनके इस जुमले को लेकर आज तक विपक्षी पार्टियां उससे सवाल करते है और सोशल मीडिया पर मजाक बनाया जाता है।

हर खाते में 15 लाख :

2014 के अपने चुनावी प्रचार में प्रधानमंत्री मोदी ने विदेश से कालाधन वापस लाने का वादा किया था। साथ ही कहा था कि हर भारतीय के खाते में 15-15 लाख रुपये भी आयेंगे। पीएम के इस जुमले को लेकर विपक्ष के साथ देश की जनता भी प्रधानमंत्री से सवाल करती है।

गधे की तरह काम करने वाला पी एम और यूपी का गोद लिया बेटा :

उत्तर प्रदेश की एक रैली में मोदी ने खुद को गधे के तरह काम करने वाला Pm बताया था। जबकि एक और रैली में पीएम मोदी ने खुद को यूपी का गोद लिया बेटा बताया था। उन्होंने कहा कि यूपी ने मुझे गोद लिया है और यूपी मेरा माईबाप है। मैं माईबाप को नहीं छोड़ूगा। मैं भले ही गोद लिया हूं, लेकिन यूपी की चिंता है मुझे। प्रधानमंत्री मोदी के इस जुमले पर विपक्ष ने उन्हें जम के घेरा था।

मै बनारस का बेटा मुझे गंगा मां ने बुलाया है :

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संसद क्षेत्र में जाकर कहा था कि मैं बनारस का बेटा हूं और मुझे गंगा मां ने बुलाया है। मोदजी के इस जुमले को लेकर आज भी लोग उनसे सवाल करते है।

अच्छे दिन आने वाले हैं :

यह जुमला ने मोदीजी का ही नहीं बल्कि पुरी बीजेपी पार्टी का मुख्य जुमला है। हर किसी की जुवा पे है कि अच्छे दिन आने वाले है।

बहुत हुआ भ्रष्टाचार, अबकी बार मोदी सरकार :

बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी ने सत्ता में आने के लिए बहुत हुआ भ्रष्टाचार, अबकी बार मोदी सरकार जुमले का जम का प्रयोग किया था। लोगो की जुबा पे भी खूब चढ़ा था ये जुमला।

सबका साथ सब का विकास :

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह सबसे मुख्य जुमलों में से एक जुमला रहा है। मोदीजी के इस जुमले को लेकर देश की जनता ने विश्वास दिखा।

मैं आपसे वादा करता हूं। अगर आप 12 घंटे काम करेंगे तो मैं 13 घंटे काम करुंगा। अगर आप 14 घंटे काम करेंगे तो मैं 15 घंटे काम करुंगा। क्यों? क्योंकि मैं प्रधानमंत्री नहीं बल्कि एक प्रधानसेवक हूं।” ये भी जुमला था।

इसके अलावा और मुख्य जुमले हैं :

मेरी राजनीति का एक ही रास्ता है, मेरी राजनीति का एक ही मकसद है, मेरी राजनीति का एक ही मंत्र है…और वो मंत्र है विकास।”

“हिंदुस्तान को अगर आगे बढ़ना है, तो हिंदुस्तान में गांव को आगे बढ़ाना पड़ेगा। गांव को अगर आगे बढ़ना है तो किसान को आगे बढ़ाना पड़ेगा।”

इन तमाम जुमलों में से मोदीजी का एक भी जुमला पूरा नही हुआ। जनता को आज भी इंतजार है कि कोई एक जुमला थो मोदीजी पूरा कर दे।

अब तक आपने सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारें में ही सुना है कि, नरेंद्र मोदी फेकू है। उनके भक्त भी बहुत बड़े वाले फेकू भक्त है। इस तरह के वादों से देश की जनता को दिए गए लेकिन मोदी सरकार को 4 साल हो चुके है लेकिन अभी तक मोदी जी ने अपना एक भी वादा पूरा नहीं किया है।

अमित शाह ने तो खुलकर ऐलान भी कर दिया है कि, 15 लाख रूपये का इंतजार मत करें, क्योंकि वह तो सिर्फ एक चुनावी जुमला ही था।

जैसे-जैसे मोदी जी के वादों की पोल खुलती गई वैसे-वैसे देशभर में मोदी जी फेकू नाम से मशहूर होने लगे। गूगल पर भी फेकू नाम से बहुत सर्च किया जाता है जिसमें सर्च करने पर सिर्फ और सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के बारें में ही आता है।

ऐसी बहुत सी बातें और जुमले है जो बता नही सकते मेरे से जितना हुआ मोदीजी के जुमले शेयर किया। अगले ब्लॉग में नया कुछ लेके आऊँगी।

✍ सिंह शिल्पी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here