loading...

बिहार के मुज्ज़फरपुर में बालिका गृह में 40 बच्चियों के साथ रेप करने की पुष्टि हुई। बच्चियों को दवा देकर उनके साथ दुष्कर्म करने की बात सामने आई। उसके बाद बालिका गृह को चलाने वाले ब्रजेश ठाकुर का नाम सामने आया वो जिसकी पहुँच सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक है।
वो शख्स जिसने अपने उसी रुतबे का इस्तेमाल करते हुए करोड़ो रुपए सरकार से बालिका गृह के नाम पर लेता रहा, उसे कानून का कैसा डर वो तो मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ ऐसे नज़र आ रहा है जैसे वो कह रहा हो कर लो करते बने क्योंकि बिहार में बहार है और मेरी जेब में नीतीश कुमार है।

मुज्ज़फरपुर में एक नारी निकेतन में बच्चियों को नशा देकर लम्बे समय तक रेप होने का आरोप लग रहा है। इसे बालिका गृह है जो एक एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति की तरफ से चलाया जाता था जिसमें 42 लड़कियां रह रही थी।

देश भर की महिलाएं बिहार के मुजफ्फरपुर कांड के खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं। मुजफ्फरपुर में सेवा संकल्प एंव विकास समिति नाम के एक एनजीओ द्वारा चलाए जा रहे लड़कियों के संरक्षण गृह में दिल दहला देने वाली जानकारियां सामने आई हैं। यहां रहने वाली लड़कियों के यौन शोषण के साथ ही भयानक यातनाएं देने के सनसनीखेज़ खुलासे हुए हैं। और अब इसी किस्म की जानकारियां बिहार सरकार की मदद से चल रहे दूसरे संरक्षण गृहों के बारे में भी सामने आ रही हैं।

बिहार की राजनीति में भूचाल ला देने वाले मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. बालिका गृह में रखी गईं 29 नाबालिग लड़कियों में से 6 लड़कियां गर्भवती गई थीं. जिसमें से तीन लड़कियों का गर्भपात करवाया गया था, ये बातें मेडिकल जांच में सामने आई हैं. मेडिकल जांच में की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि गर्भवती हुई लड़कियों की उम्र महज़ सात से 14 वर्ष के बीच है।
मजिस्ट्रेट के सामने बयान दर्ज कराने के दौरान एक दस साल की बच्ची ने कहा कि शाम होते ही बालिका गृह की लड़कियों के बीच खौफ फैल जाता थी. बालिका गृह में उनकी रातें आतंक की तरह बीतती थीं. दस साल की ही एक और पीड़िता ने बताया कि कहना नहीं मानने वाली बच्चियों की वे डंडों से पिटाई करते थे. वहीं 14 साल की एक दूसरी बच्ची के मुताबिक बृजेश के बालिका गृह आते ही कई लड़कियां तो खौफ से कांपने लगती थीं. लड़कियां उसे हंटरवाला अंकल कहती थीं।
इतनी बड़ी घटना के बाद भी सरकार नींद से नही जाग रही है।


इंसान की दरिंदगी का शिकार हुईं इन बच्चियों ने बताया जब वह तोंदवाला और मूंछवाला नेताजी वहां होते थे तो किसी को भी कमरे में आने की इजाजत नहीं होती थी. बच्चियों ने अदालत को बताया कि वहां काम करने वाली किरण हमारी शिकायतों को बार-बार नजरअंदाज कर देती थी, और दूसरी कर्मचारी नेहा ऐसी शिकायत करने पर वह बुरी इन बच्चियों को बुरी तरह प्रताड़ित करती थी. बता दें कि किरण और नेहा को भी इस मामले में 10 आरोपियों के साथ गिरफ्तार किया गया है।
बालिका गृह के सारे गुनहगार लोगों के सामने होने चाहिए।और इनकी सजा सिर्फ मौत होनी चाहिए।बालिका गृह के मुखिया जो ड्यूटी पर होते है सभी लोगों रेपिस्ट को जानते हैं।एक भी गुनहगार छुप नही सकता।अगर इस पर न्याय नहीं हुआ तो वहां सारे नेताओं को डूब मरना चाहिए।

<div id=”SC_TBlock_547860″ class=”SC_TBlock”>loading…</div><script type=”text/javascript”>
(sc_adv_out = window.sc_adv_out || []).push({
id : “547860”,
domain : “n.ads1-adnow.com”
});
</script>
<script type=”text/javascript” src=”//st-n.ads1-adnow.com/js/a.js”></script>

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here