समीक्षा बैठक में यूपी के लिए प्रियंका गांधी को CM उम्मीदवार बनाए जाने की उठी मांग

0
207
loading...

कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की हार के कारणों पर चर्चा करने के लिए रायबरेली में समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक में, कांग्रेस नेताओं ने मुख्य रूप से 3 सुझाव दिया।

  1. प्रियंका गांधी को 2022 उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए मुख्यमंत्री चेहरे के रूप में पेश किया जाना चाहिए।
  2. कांग्रेस का प्रदेश में संगठन बहुत ही कमजोर हो गया है।
  3. भविष्य में पार्टी को कभी किसी से गठबंधन नहीं करना चाहिए।

2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को उत्तर प्रदेश में मिली हार के बाद पार्टी ने 2022 विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। ऐसा माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश 2022 विधानसभा चुनाव की कमान अब प्रियंका गांधी संभालेंगी. सूत्रों के मुताबिक प्रियंका गांधी यूपी विधानसभा चुनाव के लिए संभावित उम्मीदवारों से भी मिल सकती हैं। इससे साफ है कि प्रियंका गांधी ने अभी से चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है. वह ब्लॉक, जिला, बूथ स्तर के सक्रिय कार्यकर्ताओं से भी मिलेंगी। जिन्होंने लोकसभा 2019 में अच्छा प्रदर्शन किया है उनसे एक-एक करके मिलेंगी। प्रियंका गांधी यह भी समीक्षा करेंगी कि लोकसभा चुनाव में क्या गलत हुआ था। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कई समाजवादी पार्टी के शीर्ष स्थानीय नेता कांग्रेस के संपर्क में हैं।

एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “2019 के लोकसभा चुनावों ने संदेश दिया है कि यूपी में कांग्रेस के लिए एक राजनीतिक स्थान है. और अब पार्टी के प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए पूरी रणनीति बनाई जा रही है क्योंकि प्रियंका गांधी ने महासचिव का पदभार संभाला है. जवाबदेही के साथ जिम्मेदारी तय की जाएगी और प्रियंका जी खुद उत्तर प्रदेश में पार्टी नेताओं , कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन की निगरानी करेंगी.
प्रियंका गांधी 2019 लोकसभा के उम्मीदवारों और महिला कांग्रेस, युवा कांग्रेस, सेवा दल और NSUI संगठन के लोगों से मिलेंगी. साथ ही, कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता, जो अभी तक सक्रिय नहीं हैं, उनसे संपर्क किया जाएगा. मिशन 2022 की तैयारी 10 दिन पहले शुरू हो गई थी, लेकिन अब इसे रायबरेली से औपचारिक रूप से शुरू किया जा रहा है. इस बीच, ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली में नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं।

प्रियंका ने अलग-अलग जिलाध्यक्षों और समन्वयकों से भी बातचीत की और उनसे फीडबैक लिया। वाराणसी के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता राजेश मिश्रा ने कहा कि, ‘प्रियंका गांधी से अगामी उपचुनावों और राज्य में होने वाले चुनावों के लिए पार्टी को मजबूत बनाने का अनुरोध किया गया है। हमने उनसे मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनने का भी अनुरोध किया ताकि बीजेपी को शिकस्त दी जा सके। पार्टी के नेताओं का यह भी कहना था कि हमें बिना गठबंधन का चुनाव लड़ना चाहिए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here