आर्थिक तंगी के कारण इच्छा मृत्यु मांगने वाले सोनू की प्रियंका गांधी ने मदद कि

0
143
loading...

जरूरत पर जब मदद मिल जाए तो उस मदद से बड़ा कुछ नही होता और उस मददगार से बड़ा भी कोई नही होता है। ऐसा ही कुछ उत्तर प्रदेश के उन्नाव में हुआ है जहां हर तरफ से मदद की आस छोड़ चुके सोनू शुक्ला की मदद के लिए प्रियंका गांधी सामने आई।

बीमारी के इलाज में सब कुछ गवां चुका असोहा का बैगांव निवासी सोनू शुक्ला जब गरीबी से परेशान हो गया तो कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी से PRO के माध्यम से मदद की गुहार लगाई। जानकारी होने पर प्रियंका गांधी ने उन्नाव के एक पार्टी कार्यकर्ता के माध्यम से सोनू को एक माह का राशन उसके घर भिजवाया।

असोहा क्षेत्र के गांव बैगांव निवासी सोनू शुक्ला के पिता शिवाकांत की मौत हो चुकी है। परिवार में पत्नी सुनीता व तीन बच्चे अर्चित (9)आर्यन (6) तथा निष्छल (3) हैं। सोनू भूमिहीन है। उसे गंभीर बीमारी है। पूर्व में इसी बीमारी के कारण उसका एक दाहिना पैर काटना पड़ा था। सोनू के अनुसार डॉक्टरों ने अब बायां पैर भी काटने की बात कही है।

आर्थिक किल्लत होने से सोनू अब खुद के लिए दवा की व्यवस्था नहीं कर पा रहा। आमदनी का कोई जरिया न होने से वह परिवार में मां, पत्नी व तीन बच्चों का भरणपोषण करने में मुश्किलें आने लगीं।

सोनू ने बताया कि कई साल पहले उसकी महाराष्ट्र शिरडी में साईं मंदिर के पास दुकानें थी। बीमारी में वह भी बिक गईं। उस समय महाराष्ट्र के कुछ कांग्रेसियों से मित्रता हुई थी। उन्होंने ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के PRO राजकुमार का फोन नंबर दिया था।

इधर, जब स्थितियां बिगड़ी तो एक दिन PRO को फोन करके पूरी बात बताई। PRO ने प्रियंका गांधी को जानकारी दी तो उन्होंने कांग्रेस के प्रदेश विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू को उनकी सहायता कराने को कहा। उन्नाव के सरोसी निवासी मोहित पांडेय एक माह का राशन सरसों का तेल, आटा, दाल, चावल, चीनी, चाय, आलू, प्याज और सब्जी मसाला पैकेट लेकर सोनू के घर पहुंचे। बताया कि प्रियंका गांधी ने भिजवाया है। दवाएं मंगवाई गई हैं। आते ही उन्हें दे दी जाएगी। कांग्रेस के नेता दिलप्रीत सिंह ने बताया कि पार्टी के विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर राशन भिजवाया गया है।

सोनू ने एक शौचालय के लिए लंबी लड़ाई लड़ी थी। 12 हजार पाने के लिए इससे ज्यादा खर्च हो गए थे, लेकिन इसके बाद भी उसने लड़ाई जारी रखी। जिस पर जिला प्रशासन ने छह माह बाद उसे शौचालय का पैसा दिया था।

दिव्यांग हो चुका सोनू बेरोजगार है। उसके पास न नौकरी है और न ही कोई रोजगार। घर में कोई कमाने वाला नहीं है। अब उसके पास बेचने के लिए कुछ नहीं बचा है। इन्हीं दिक्कतों के कारण सोनू ने अक्तूबर 2017 में राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को पत्र भेजकर इच्छामृत्यु की अनुमति मांगी थी।

वैसे राजनीति का सही मायने भी जरूरतमंद का मदद करना ही होता है ऐसे में अगर प्रियंका गांधी जैसी राजनेता जरूरतमंद को मदद कर देश मे नया सन्देश दे रही हैं तो आए आने वाले राजनीति के लिए बेहतर है। वैसे हम उम्मीद करते हैं कि सोनू के बीमारी में सभी मदद करें और उसके परिवार को इस समस्या से निकालें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here