प्रियंका गांधी ने वीडियो ट्वीट के जरिये बीजेपी के केंद्रीय मंत्रियों पर किया कटाक्ष

0
101
loading...

अपने आक्रामक और कटाक्ष भरे ट्वीट से यूपी सरकार केंद्र सरकार की आलोचना करने वाली प्रियंका गांधी ने अपने एक ट्वीट से बीजेपी के दो केंद्रीय मंत्रियों पर निशाना साधते हुए कटाक्ष किया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक क्रिकेट वीडियो ट्वीट करते हुए केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और निर्मला सीतारमण पर निशाना साधा है। प्रियंका ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा कि गुरुत्वाकर्षण और ओला-उबर की बातें करने से अर्थव्यवस्था नहीं सुधारी जा सकती, बल्कि इसके लिए सच्ची भावना होनी जरूरी है। प्रियंका ने इससे पीयूष गोयल के आइंस्टीन पर दिए बयान और निर्मला सीतारमण के मंदी के लिए ओला-उबर को जिम्मेदार बताने वाले बयान पर तंज कसा है।

कैच पकड़ने के लिए अंत तक गेंद पर नजर
कैच पकड़ने के लिए अंत तक गेंद पर नजर जरूरी

प्रियंका गांधी ने जो वीडियो शेयर किया है उसमें एक फिल्डर सीमा रेखा के पास मुश्किल कैच पकड़ते हुए दिख रहा है।

इसके साथ उन्होंने ट्वीट किया, सही कैच पकड़ने के लिए अंत तक गेंद पर नजर और खेल की सच्ची भावना होना जरुरी है। वरना आप सारा दोष गुरुत्वाकर्षण, गणित, ओला-उबर और इधर-उधर की बातों पर मढ़ते रहेंगे. भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए जनहित में जारी।

दरअसल एक दिन पहले केंद्रीय रेलमंत्री पीयूष गोयल ने भारत के 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनने के सवाल पर कहा था कि हिसाब-किताब में मत पड़िए। गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की खोज आइंस्टीन नहीं कर पाते अगर वो हिसाब-किताब में पड़ते।

इससे पहले निर्मला सीतारमण ने देश में आर्थिक मंदी को लेकर कहा था कि कारें इसलिए कम बिक रही हैं क्योंकि युवाओं की सोच बदल गई है। अब जवान तबका कार खरीदने की जगह ओला और उबर जैसी टैक्सी सेवाओं तरजीह दे रहा है। दोनों ही केंद्रीय मंत्रियों को ‘तथ्यहीन’ बात करने के लिए काफी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

जब से पीयूष गोयल और निर्मला सीतारमन ने यह बयान दिया है तब से ही सोशल मीडिया और जमीनी स्तर पर उनकी आलोचना हो रही है और लोग खूब उनका मजाक बना रहे हैं और तरह-तरह के चुटकुले उनके ऊपर बन रहे हैं और साथ ही लोग उनके ज्ञान पर भी सवाल उठा रहे हैं। जबकि कुछ लोग यह कह रहे हैं कि यह दोनों मंत्री देश के मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए जानबूझकर ऐसे बयान दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here