कोर्ट के फटकार के बाद दो अलग-अलग यौन शोषण के मामलों में बीजेपी विधायक और पूर्व सांसद पर केस दर्ज

0
222

भारतीय जनता पार्टी के नेता लगातार दुष्कर्म यौन शोषण और महिलाओं पर हिंसा करने के आरोप में फंसे रहे हैं यह दुर्भाग्य है कि देश के अधिकांश राज्यों में सरकार बना चुकी भारतीय जनता पार्टी ऐसे लोगों को अपना नेता बना रही है जो दुष्कर्म और यौन शोषण जैसा क्यों ना अपराध करते हैं पहले भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के इस तरह के आ चुके हैं अब ताजा मामला झारखंड का आया है जहां एक विधायक और एक पूर्व सांसद पर यौन शोषण का आरोप लगा है और कोर्ट के फटकार के बाद इन दोनों नेताओं पर केस दर्ज किया गया है

झारखंड में 10 महीने पहले भाजपा में जिला मंत्री के पद पर काम कर रही एक महिला नेता ने बाघमारा के विधायक ढुलु महतो पर यौन संबंध बनाने के लिए दबाव डालने का आरोप लगाते हुए कतरास थाने में ऑनलाइन शिकायत की थी लेकिन ने पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। भाजपा की एक और महिला कार्यकर्ता ने पार्टी के पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय पर यौन शोषण की कोशिश का आरोप लगाते हुए कतरास थाने में ही शिकायत दी थी लेकिन उस पर भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद पीड़िता ने हाईकोर्ट ने शरण ली। कोर्ट की फटकार के बाद पुलिस के आलाधिकारी हरकत में आए फिर विधायक ढुलु महतो और पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय के खिलाफ यौन शोषण की कोशिश मामले में मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने जांच शुरू की।

23 नवंबर 2018 को महिला नेता ने विधायक ढुलु महतो के खिलाफ और 26 नवंबर 2018 को महिला कार्यकर्ता ने पूर्व सांसद के खिलाफ यौन शोषण की कोशिश की शिकायत कतरास थाने में दी थीं। महिला नेता के मुताबिक, एसएसपी, डीजीपी समेत अन्य पुलिस आलाधिकारियों से गुहार के बावजूद कोई सुनवाई नहीं हुई। उन्होंने थाने के सामने आत्मदाह की कोशिश भी की थी। इसके बाद महिला नेता ने झारखंड हाईकोर्ट का सहारा लिया। 28 अगस्त को पीड़िता की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए राज्य सरकार, डीजीपी और धनबाद के एसएसपी से जवाब-तलब किया था। इस मामले की अगली सुनवाई 22 अक्टूबर को होगी।

हाईकोर्ट की फटकार के बाद पुलिस के आलाधिकारी हरकत में आए। डीजीपी कमल नयन चौबे ने इस मामले में कार्रवाई नहीं होने पर पुलिस अधिकारियों से नाराजगी जताई। इस मामले के बारे में बताते हुए एसएसपी किशोर कौशल ने कहा कि विधायक ढुलु महतो और पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। जिला मंत्री पीड़िता नेता की तहरीर पर केस दर्ज करते हुए विधायक ढुलु महतो और आऩंद शर्मा के खिलाफ दुष्कर्म के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है। दूसरी एफआईआर में पूर्व सांसद रवींद्र पांडेय के साथ-साथ पूर्व भाजपा मंडल अध्यक्ष विनय सिंह और राजीव कुमार को आरोपी बनाया गया है।

जिस तरह से लगातार बीजेपी नेताओं का महिलाओं के खिलाफ बढ़ता विकृत मानसिकता सामने आ रहा है। वो भारतीय समाज और भारतीय राजनीति के लिए सबसे घिनौना चेहरा है। ऐसे नेताओं पर जितनी बड़ी और कड़ी कारवाई हो वह कम होगा क्योंकि जो जनप्रतिनिधि हैं जब वही ऐसा काम करेंगे तो फिर अपराधियों पर लगाम कैसे लगेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here