कपिल सिब्बल ने नरेंद्र मोदी पर किया तंज , कहा जिनपिंग के सामने दिखाओ 56 इंच की छाती

0
59
loading...

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इन दिनों भारत के दौरे पर हैं जिसको लेकर भारत की राजनीतिक सरगर्मियां भी तेज हो गई है। जहां कल एक तरफ तमिलनाडु के लोगों ने पीएम मोदी का जिनपिंग के सामने भी विरोध किया तो वही कपिल सिब्बल ने मोदी को अपने 56 इंच का सीना दिखाने के लिए ललकार दिया।

पीएम मोदी और जिनपिंग की इस मुलाकात को लेकर पूरे विश्व की नजर है। कहा जा है कि इससे भारत और चीन के बीच संबंध होंगे। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने पीएम मोदी को एक सलाह दी है।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, समय आ गया है कि पीएम मोदी अपनी 56 इंच की छाती दिखाएं और चीन के राष्ट्रपति की आंखों में आंखें डाल कर उनसे पाक अधिकृत कश्मीर में 5000 किलोमीटर की जमीन छोड़ने को कहें। उन्होंने आगे लिखा, शी जिनपिंग पाकिस्तान के अच्छे दोस्त हैं और वह अनुच्छेद 370 पर इमरान खान का समर्थन भी करते नजर आए हैं।

ऐसे में पीएम मोदी को उनकी आंखों में आंखें डालकर पीओके में भारत की जमीन खाली करने को बोलना चाहिए। कपिल सिब्बल ने पीएम मोदी को भी सलाह दिया कि वह जिनपिंग से कहें कि भारत में 5जी के लिए चीनी कंपनी हुवेई की जरूरत नहीं है।

कपिल सिब्बल के इस ट्वीट को तंज के रूप में देखा जा रहा है जिसमें वह पीएम मोदी को अपनी 56 इंच की छाती दिखाने की चुनौती दे रहे हैं। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, आप 56 इंच की छाती दिखाईये, या फिर हाथी के दांत खाने के कुछ और, दिखाने के कुछ और वाली बात हो जाएगी। बता दें, कांग्रेस नेता शुरू से ही पीएम मोदी और भाजपा को लेकर ऐसे ट्वीट करते रहे हैं।

वहीं कांग्रेस पार्टी ने भी पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए सवाल किया था कि, जब शी जिनपिंग ने कहा कि वह कश्मीर की हलत देख रहे हैं तो हमारे प्रधानमंत्री ने उनसे यह सवाल क्यों नहीं किया की चीन में भी लोगों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है।

मोदी और जिनपिंग की वार्ता से पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने चीन से मांग की है कि वह आक्साई चिन क्षेत्र भारत को वापस करे।

स्पष्ट है कि शी जिनपिंग और पीएम मोदी के मुलाकात को लेकर अलग-अलग संगठनों की अलग-अलग मांग लेकिन देखना होगा दिलचस्प होगा कि पीएम मोदी जिनपिंग से किन किन मुद्दों पर बात करते हैं और जब यह मुलाकात खत्म होती है तो भारत को इससे क्या फायदा होता है या फिर जिनपिंग सिर्फ अपने व्यपार के लिए ही भारत का उपयोग करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here