स्टार प्रचारकों के कारण VIP सीट बना झाबुआ , सोनिया गांधी और जेपी नड्डा करेंगे प्रचार

0
120
loading...

मध्यप्रदेश में होने वाले एक विधानसभा सीट के उपचुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज है। दोनों पार्टियों के लिए यह उपचुनाव आन का सवाल बन गया है। तभी दोनों पार्टियां अपनी पूरी ताकत एक सीट जीतने के लिए लगा रहे रही। मध्यप्रदेश की आदिवासी बहुल जिला झाबुआ में होने वाला यह चुनाव स्टार प्रचारकों की सूची के कारण VIP चुनाव चुका है।

21 अक्टूबर को होने वाले एक सीट उपचुनाव के लिए पूरे युद्धस्तर पर तैयारी की जा रही है। प्रदेश में 15 साल बाद सत्ता में आने वाली कांग्रेस पार्टी और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के लिए यह उपचुनाव कितना महत्वपूर्ण है, इसका अंदाजा दोनों दलों के स्टार प्रचारकों की जारी सूची से लगाया जा सकता है।

कांग्रेस और भाजपा, दोनों ने ही झाबुआ विधानसभा उपचुनाव के लिए 40-40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की है. कांग्रेस की तरफ से जहां पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, प्रदेश के सीएम कमलनाथ और दिग्विजय सिंह जैसे दिग्गज नेताओं को इस सूची में शामिल किया गया है. वहीं, भाजपा ने भी कांग्रेस के जवाब में पार्टी के दिग्गज नेताओं की फौज उतारने का प्लान बनाया है. भाजपा की ओर से झाबुआ में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा , पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह समेत कई केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता चुनाव प्रचार करेंगे

मध्य प्रदेश निर्वाचन आयोग के अनुसार, झाबुआ (सु) विधानसभा सीट की सीमा मध्य प्रदेश के पड़ोसी राज्य गुजरात से छूती है. लिहाजा, दोनों दलों के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में गुजरात के नेताओं का भी नाम शामिल है. कांग्रेस इस उपचुनाव में जीत दर्ज कर प्रदेश की विधानसभा में अपना संख्याबल ठीक करना चाहती है, लिहाजा पार्टी ने स्टार प्रचारकों में गुजरात प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अमित चावड़ा और गुजरात विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष परेशभाई धनानी का नाम शामिल किया गया है. इसके अलावा झाबुआ के स्थानीय नेता जेवियर मेड़ा का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है. आपको बता दें कि कांग्रेस ने झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में यहां से पांच बार सांसद रह चुके कांतिलाल भूरिया को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं, भाजपा की तरफ से भानू भूरिया चुनाव मैदान में कांग्रेस को टक्कर देंगे।

झाबुआ उपचुनाव में कांग्रेस और भाजपा, दोनों पार्टियां अपनी-अपनी जीत के दावे कर रही है. नामांकन के बाद चुनावी माहौल और गर्माने के आसार हैं. कांग्रेस पार्टी का दावा है कि प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी नीतियों से जनता खुश है, इसलिए पार्टी की जीत यहां निश्चित है. वहीं इसके उलट विपक्षी भाजपा का दावा है कि कांग्रेस की नीतियों से युवा, किसान सभी परेशान हैं. लिहाजा भाजपा का युवा उम्मीदवार ही झाबुआ चुनाव जीतेगा.

अब देखना दिलचस्प है कि इस वीआईपी सीट पर कौन बाजी मारेगा क्योंकि कांग्रेस जहां अपने सीटों की संख्या बढ़ाने के लिए हर तरह से इस सीट को जीतने के लिए प्रयास कर रही है तो वहीं बीजेपी भविष्य में कमलनाथ सरकार का तख्तापलट करने के लिए हर हाल में सीट को जीतने का प्रयास कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here