जन्मदिन पर राहुल गांधी से जुड़ी कुछ विशेष बाते

0
902

आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी का जन्मदिन है राहुल के जन्मदिन पर पूरे देश मे कांग्रेस ” सेवा दिवस” के रुप मे मना रही है आइये जानते है उनसे जुडी कुछ विशेष बाते

  1. राहुल गांधी का जन्म 19 जून 1970 को दिल्ली में हुआ। वे देश के मशहूर गांधी-नेहरू परिवार से हैं। उनकी मां श्रीमती सोनिया गांधी हैं, जो अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के रायबरेली लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं। उनके पिता स्वर्गीय राजीव गांधी भारत के प्रधानमंत्री थे। राहुल गांधी कांग्रेस में पूर्व अध्यक्ष हैं और लोकसभा में केरल में स्थित वायनाड चुनाव क्षेत्र की नुमाइंदगी करते हैं। साल 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली जीत का श्रेय राहुल गांधी को दिया गया था। वे सरकार में कोई किरदार निभाने की बजाए पार्टी संगठन में काम करना पसंद करते हैं, इसलिए उन्होंने मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री का ओहदा लेने से साफ इंकार कर दिया था..!
  2. राहुल गांधी की शुरुआती शिक्षा दिल्ली के सेंट कोलंबस स्कूल में हुई। उन्होंने प्रसिद्ध दून विद्यालय में भी कुछ समय तक पढ़ाई की, जहां उनके पिता ने भी पढ़ाई की थी। इसके बाद सुरक्षा कारणों की वजह से कुछ अरसे तक उन्हें घर पर ही पढ़ाई-लिखाई करनी पड़ी। साल 1989 में उन्होंने दिल्ली के सेंट स्टीफेंस कॉलेज में दाखि‍ला लिया..!

उनका यह दाखि‍ला पिस्टल शूटिंग में उनके हुनर की बदौलत स्पोर्ट्स कोटे से हुआ। और शूटिंग में वे नेशनल चैंपियन रह चुके है,, उन्होंने इतिहास ऑनर्स में नाम लिखवाया। वे सुरक्षाकर्मियों के साथ कॉलेज आते थे। तकरीबन सवा साल बाद 1990 में उन्होंने कॉलेज छोड़ दिया। उन्होंने हार्वर्ड विश्वविद्यालय के रोलिंस कॉलेज फ्लोरिडा से साल 1994 में अपनी कला स्नातक की उपाधि हासिल की। इसके बाद उन्होंने साल 1995 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के ट्रिनिटी कॉलेज से डेवलपमेंट स्टडीज में एम.फ़िल. की उपाधि हासिल की..!

  1. राहुल गांधी को घूमने-फिरने और खेलकूद का बचपन से ही शौक रहा है। उन्होंने तैराकी, साईलिंग और स्कूबा-डायविंग की और स्कैवश खेला. उन्होंने बॉक्सिंग सीखी और पैराग्लाइडिंग का भी प्रशिक्षण लिया। उनके बहुत से शौक उनके पिता राजीव गांधी जैसे ही हैं..!

अपने पिता के तरह उन्होंने दिल्ली के नजदीक हरियाणा स्थित अरावली की पहाड़ियों पर एक शूटिंग रेंज में निशानेबाजी सीखी। उन्हें भी आसमान में उड़ना उतना ही पसंद है, जितना उनके पिता को पसंद था। उन्होंने भी हवाई जहाज उड़ाना सीखा। वे अपनी सेहत का भी काफी ख्याल रखते हैं और व्यस्त दिनचर्या में भी कसरत के लिए समय निकाल ही लेते हैं। साथ ही वे रोज दस किलोमीटर तक जॉगिंग करते हैं..!

  1. स्नातक की पढ़ाई करने के बाद वे लंदन चले गए, जहां उन्होंने प्रबंधन गुरु माइकल पोर्टर की प्रबंधन परामर्श कंपनी मॉनीटर ग्रुप के साथ तीन साल तक काम किया। हार्वर्ड बिजनेस स्कूल के प्रोफेसर माइकल यूजीन पोर्टर को ब्रैंड स्ट्रैटजी का विद्वान माना जाता है। सुरक्षा कारणों की वजह से राहुल गांधी ने रॉल विंसी के नाम से काम किया। उनके सहयोगी नहीं जानते थे कि वे राजीव गांधी के बेटे और इंदिरा गांधी के पौत्र के साथ काम कर रहे हैं। राहुल गांधी हमेशा सुरक्षाकर्मियों से घिरे रहे हैं, इसलिए उन्हें आम इंसान की तरह जीने का मौका नहीं मिला। वे अपना जीवन जीना चाहते थे, राहुल गांधी ने एक बार कहा था, “अमेरिका में पढ़ाई के बाद मैंने जोखिम उठाया और अपने सुरक्षा गार्डो से निजात पा ली, ताकि इंग्लैंड में आम जिंदगी सकूं..!”
  2. विदेश में रहते राहुल गांधी को दस साल हो गए थे। वे स्वदेश लौटे और फिर साल 2002 के अंत में उन्होंने देश की व्यावसायिक राजधानी मुंबई में एक इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी आउटसोर्सिग फर्म, बेकॉप्स सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड बनाई। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में दर्ज आवेदन के मुताबिक इस कंपनी का मकसद घरेलू और अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों को सलाह और सहायता मुहैया कराना, सूचना प्रौद्योगिकी में परामर्शदाता और सलाहकार की भूमिका निभाना और वेब सॉल्यूशन देना था। साल 2004 के लोकसभा चुनाव से पहले चुनाव आयोग को दिए हलफनामे के मुताबिक बेकॉप्स सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड में राहुल गांधी की हिस्सेदारी 83 प्रतिशत थी। हालांकि सियासत की वजह से वे अपने कारोबार को खास तवज्जो नहीं दे पाए..!
  3. राहुल गांधी के सियासी जीवन की शुरुआत भी अचानक ही हुई। वे साल 2003 में कांग्रेस की बैठकों और सार्वजनिक समारोहों में नजर आए। एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट श्रृंखला देखने के लिए एक सद्भावना यात्रा पर वह अपनी बहन प्रियंका गांधी के साथ पाकिस्तान भी गए। इसके बाद जनवरी 2004 में उन्होंने अपने पिता के पूर्व निर्वाचन क्षेत्र अमेठी का दौरा किया, तो उनके सियासत में आने की चर्चा शुरू हो गई..!
  4. मार्च 2004 में लोकसभा चुनाव का ऐलान हुआ, तो राहुल गांधी ने सियासत में आने का ऐलान कर दिया। उन्होंने अपने पिता के पूर्व निर्वाचन क्षेत्र अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़ा। इससे पहले उनके चाचा संजय गांधी ने भी इसी क्षेत्र का नेतृत्व किया था। उस समय उनकी मां सोनिया गांधी यहां से सांसद थीं। उन्होंने अपने नजदीकी प्रतिद्वंदी को एक लाख वोटों से हराकर शानदार जीत हासिल की। इस दौरान उन्होंने सरकार या पार्टी में कोई ओहदा नहीं लिया और अपना सारा ध्यान मुख्य निर्वाचन क्षेत्र के मुद्दों और उत्तर प्रदेश की राजनीति पर केंद्रित किया..!
  5. जनवरी 2006 में आंध्र प्रदेश के हैदराबाद में हुए कांग्रेस के एक सम्मेलन में पार्टी के हजारों सदस्यों ने राहुल गांधी से पार्टी में और महत्वपूर्ण नेतृत्व की भूमिका निभाने की गुजारिश की। राहुल गांधी को 24 सितंबर 2007 में पार्टी सचिवालय के एक फेरबदल में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति का महासचिव नियुक्त किया गया। उन्हें युवा कांग्रेस और भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ की जि‍म्मेदारी भी सौंपी गई। साल 2009 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने उत्तर प्रदेश की कुल 80 लोकसभा सीटों में से 21 जीतीं। राहुल गांधी को 19 जनवरी 2013 में कांग्रेस का उपाध्यक्ष बनाया गया, बाद में वे पार्टी के अध्यक्ष भी बने..!
  6. राजनीति की विरासत को संभालने वाला यह युवा नेता युवाओं और अन्य वर्गों के साथ-साथ कई स्थानों पर बुजुर्गों का भी चहेता है। राहुल युवाओं ही नहीं, बल्कि बच्चों से भी घुलमिल जाते हैं। कभी किसी मदरसे में जाकर बच्चों से बात करते हैं, तो कभी किसी मैदान में खेल रहे बच्चों के साथ बातचीत शुरू कर देते हैं। उन्हें अपनी भांजी मिराया और भांजे रेहान के साथ वक्त बिताना भी बहुत अच्छा लगता है..!
  7. भूमि अधिग्रहण के मुद्दे पर राहुल गांधी द्वारा निकाली गई पदयात्रा के समय राहुल गांधी ने ग्रेटर नोएडा के ग्रामीणों के साथ जो वक्त बिताया। अपनी पदयात्रा के दौरान पसीने से बेहाल राहुल ने शाम होते ही गांव बांगर के किसान विजय पाल की खुली छत पर स्नान किया, फिर थोड़ी देर आराम करने के बाद उन्होंने घर पर बनी रोटी, दाल और सब्जी खाई। वे एक आम आदमी की तरह ही बांस और बांदों की चारपाई पर सोए। यह कोई पहला मौका नहीं था जब राहुल गांधी इस तरह एक आम आदमी का जीवन जी रहे थे। इससे पहले भी वे रोड शो कर चुके थे।
    गौरतलब है कि एक सर्वे में #विश्वसनीयता के मामले में दुनिया के बड़े नेताओं में राहुल गांधी को तीसरा दर्जा मिला है..!
  8. दुनिया की सबसे महंगी खुदरा हाई स्ट्रीट में शुमार दिल्ली की खान मार्केट में राहुल का भी सबसे प्रिय हैंगआउट है। उन्हें बरिस्ता में कॉफी पीते हुए या बाजार की बाहरी तरफ बुक शॉप्स में किताबों के पन्ने पलटते देखा जा सकता है। वे खाने के बहुत शौकीन हैं। पुरानी दिल्ली का खाना भी उन्हें यहां खींच लाता है..!
  9. 16 दिसंबर 2017 को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के 2 साल में ही पंजाब , छतीसगढ़ , गुजरात , राजस्थान जैसे राज्यो में कांग्रेस पार्टी ने सत्ता में वापसी की लेकिन लोकसभा चुनावों में अमेठी से हार और कांग्रेस पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने पार्टी के अध्यक्ष पद से त्यागपत्र दे दिया, जो उनके पार्टी के प्रति समर्पण और जिम्मेदारी की भावना का परिचायक है..!
  10. कोरोना आपदा में वायनाड के सांसद के तौर पर उनकी नीतियों से मात्र 19 दिन में ही वायनाड कोरोना मुक्त हो गया,
    उससे पूर्व भी राहुल गांधी जी की सलाहों पर सरकार गौर करती तो देश कोरोना के खतरे से महफूज रहता..!
  11. राहुल गांधी जी ने इस बार सैनिकों की शहादत के सम्मान में अपना जन्मदिन न मनाने का फैसला किया है और उनकी यह संवेदनशीलता उन्हें खास बनाती है, गौरतलब है कि पिछले वर्ष भी बिहार में चमकी बुखार के प्रकोप को देखते हुये उन्होंने जन्मदिन नही मनाया था.!
  12. राहुल गांधी को पप्पू साबित करने और मजाक उड़ाने के उद्देश्य से भाजपा ने हजारो करोड़ रु पानी की तरह बहा दिए, लेकिन 16 वर्ष के राजनैतिक कैरियर में वे हर जगह खुद की प्रतिभा का लोहा मनवा रहे है,, इंटरनेशनल एजेंसीज ने उन्हें विश्व के सबसे ज्यादा प्रतिभावान नेताओ में शामिल किया है..!
    वही नेताओं की विश्वसनीयता में भी उन्हें दुनिया मे तीसरा स्थान मिला है..!
  13. राहुल गांधी को खामोश शामें बहुत पसंद हैं। इसके साथ ही उन्हें दुनिया की चकाचौंध भी खूब लुभाती है। वे रिश्तों को बहुत अहमियत देते हैं। राहुल गांधी को लोग प्यार से RAGA भी कहते हैं..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here