चुनावी नतीजे से पहले कमलनाथ का बीजेपी पर बड़ा आरोप

0
917

मध्यप्रदेश विधानसभा उपचुनाव के नतीजे से पहले ही प्रदेश में आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति शुरू हो गई है। चुनाव नतीजे से पहले प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि शिवराज फिर से खरीद फरोख्त करना चाह रहे हैं।

पूर्व सीएम ने कहा है कि उप चुनावों में जनता द्वारा सच्‍चाई का साथ देने के कारण अपनी हार को सुनिश्चित देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने येन-केन प्रकारेण सरकार में बने रहने के लिए सौदेबाजी और बोलियां लगाने की राजनीति फिर शुरू कर दी है। उनके पास कांग्रेस के विधायकों और निर्दलीय विधायकों की तरफ से निरंतर यह सूचना प्राप्‍त हो रही है कि भाजपा के लोग उनसे संपर्क करके तरह-तरह के प्रलोभन दे रहे हैं।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने भाजपा को नसीहत देते हुए कहा कि इस प्रदेश की जनता ने सौदेबाजी और बोलियों से बनी सरकार को अस्‍वीकार कर दिया है। 10 नवम्‍बर को उपचुनाव के परिणाम इस बात को सिद्ध करेंगे कि प्रदेश की जनता ने सौदेबाजी की सरकार को नकार दिया है। पूर्व सीएम ने आगे कहा कि शुचिता की राजनीति की बात करने वाली भाजपा को चुनाव परिणाम के बाद नैतिकता के आधार पर इस्‍तीफा देना पड़ेगा लेकिन जो आचरण आज की भाजपा और उनके नेताओं का है, उनसे नैतिकता की उम्‍मीद मध्‍यप्रदेश की जनता को नहीं है। आज की भारतीय जनता पार्टी तो नैतिकता से कोसों दूर जा चुकी है।

वहीं उन्होंने मार्च 2020 में भाजपा के आचरण का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा ने उस समय अपने आचरण से यह स्‍वयं सिद्ध किया भारतीय जनता पार्टी अपनी नैतिकता से दूर हो चुकी है। अब फिर से सरकार में बने रहने के लिए मतदान के बाद अनैतिक और प्रदेश को कलंकित करने की राजनीति भारतीय जनता पार्टी ने शुरू कर दी है।

नाथ ने आगे कहा कि मतदान के पहले भाजपा ने पुलिस, प्रशासन, रुपया, शराब और विभिन्‍न प्रलोभन सामग्री का दुरुपयोग कर मतदान को प्रभावित करने का कुत्सित प्रयास किया और जब इससे भी सफल होते नहीं दिख रहे हैं तो फिर से सौदेबाजी की राजनीति पर उतर आए हैं। आगामी 10 नवम्‍बर को आने वाला जनादेश यह सिद्ध करेगा कि सौदेबाजी के माध्‍यम से बनने वाली सरकारे जनता खारिज करती है। यह जनमत उन अधिकारियों के लिए भी चेतावनी होगा जो संवैधानिक दायित्‍वों का अतिक्रमण कर राजनैतिक एजेण्‍डे के लिए काम करने हेतु किसी भी सीमा तक जाने के लिए उतावले रहे हैं।

वहीं बीजेपी को चेतावनी देते हुए कहा भारतीय जनता पार्टी ने सरकार में टिके रहने के लिए मध्‍यप्रदेश की पहचान और जनता के सम्‍मान को कलंकित करने की सौदेबाजी की तो जनता के साथ मिलकर लोकतंत्र को बचाने के लिए कांग्रेस आक्रमक आंदोलन और प्रतिरोध करेगी। किसी भी स्थिति में सौदेबाजी की सरकार को मध्‍यप्रदेश में स्‍वीकार नहीं किया जायेगा। प्रदेश में जनता की सरकार को स्‍थापित करने के लिए सौदेबाजों और बोली लगाने वालों को मुहंतोड़ जवाब दिया जायेगा।

गौरतलब है कि सिंधिया गुट के विधायकों का कांग्रेस छोड़ बीजेपी में चले जाने के कारण प्रदेश के 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुआ है जिसका नतीजा 10 नवंबर को आएगा इन सभी सीटों के लिए 3 नवंबर को मतदान हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here