नीतीश सरकार ने किया तेजस्वी का बचाव तो मोदी ने नीतीश सरकार पर किया हमला , क्या बिहार में बन रहा नया समीकरण

लोकसभा चुनाव के नतीजे के बाद सबसे अधिक फायदा में रहने वाली जदयू मोदी सरकार के मंत्रीमंडल में शामिल नही हुई और बाहर से ही NDA का हिस्सा बने रही। पिछले लोकसभा चुनाव में सिर्फ 2 सीट पर सिमट जाने वाली जदयू इस बार NDA में 17 में से 16 सीट जीती और NDA गठबंधन ने 40 में से 39 सीट जीत गई , जहाँ राजद का खाता तक नही खुला तो वही कांग्रेस को अपनी परंपरागत सीट किशनगंज को बचाने के लिए काफी मशक्कत करना पड़ा। इस चुनाव में पप्पू यादव , जीतनराम मांझी , उपेंद्र कुशवाहा और सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी सहित कन्हैया कुमार का सूपड़ा साफ हो गया।

परन्तु नतीजे के 1 महीने के अंदर राजनीतिक स्थिति बदली-बदली लगने लगी है जहां जदयू सरकर में शामिल नही हुई तो वहीं जदयू ने धारा 370 हटाने का भी विरोध किया और गिरिराज सिंह के ट्वीट ने जदयू और बीजेपी के बीच सबकुछ ठीक न होने के संकेत दिए तो दूसरी तरफ जदयू-बीजेपी के बीच जमकर वाकयुद्ध हुआ।

लेकिन इन सबसे अधिक चौकाने वाला स्थिती अब बन गया है जब बिहार की नीतीश सरकार ने राजद नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव का बचाव करते हुए नजर आ रहे हैं , अपने सरकारी आवास पर करोड़ो रूपये नाजायज खर्च करने का आरोप झेल रहे तेजस्वी यादव का बचाव करते हुए नीतीश सरकार ने कहा बंगला में एक बार मे पूरा खर्च नही हुआ है इसलिए इसमे किसी तरह की अनियमितता की कोई सवाल ही नही है। इसके साथ उन्हें क्लीन चिट दे दी।

पर बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को नीतीश सरकार का ये रुख पसन्द नही आया और उन्होंने इस पर सवाल उठाते हुए कहा कि 5 देशरत्न मार्ग स्थित बंगले के साज-सज्जा पर तेजस्वी ने अपने पद का दुरूपयोग किया है. उन्होंने पूछा कि आखिर किस नियम के तहत तेजस्वी यादव ने इतना खर्च किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here