लम्बी पूछताछ के बाद गिरफ्तार हुआ लखीमपुर खीरी कांड का आरोपी आशीष मिश्रा

लखीमपुर खीरी कांड में नामजद अभियुक्त केंद्रीय गृह राज्यमंत्री के पुत्र आशीष मिश्रा को आखिरकार 12 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद शनिवार रात 10:50 बजे गिरफ्तार कर ही लिया गया।.

कार से किसानों को कुचलने के मामले में आशीष मिश्र की गिरफ्तारी की मांग पिछले कुछ दिनों से लगातार की जा रही थी। कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी दल और किसान इस गिरफ्तारी को लेकर यूपी सरकार पर दबाव बना रहे थे।

यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा था कि यूपी सरकार की तरफ से इस मामले में जो भी कार्रवाई हुई है, उससे हम संतुष्ट नहीं हैं।

सरकार द्वारा बनाई गई विशेष पर्यवेक्षण समिति के डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने पुलिस लाइन स्थित क्राइम ब्रांच के कार्यालय के बाहर आकर गिरफ्तारी की पुष्टि की। इससे पहले शनिवार की सुबह 10 बजकर 40 मिनट पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा उर्फ मोनू क्राइम ब्रांच के कार्यालय के सामने अचानक हाजिर हो गए, जबकि उनके समर्थक उनके पिता के संसदीय कार्यालय के नीचे मौजूद थे।

डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल ने बताया आशीष मिश्रा सहयोग नहीं कर रहे, विवेचना में कई बातें बताना नहीं चाहते. इसलिए हम उन्हें गिरफ्तार कर रहे हैं, उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे पर आरोप लगा कि उन्होंने प्रदर्शन कर रहे किसानों पर अपनी गाड़ी चढ़ा दी. जिसके बाद से ही उनके खिलाफ लगातार प्रदर्शन होना शुरू हो गया. दबाव बनते ही यूपी पुलिस ने मंत्री के बेटे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली. लेकिन गिरफ्तारी को लेकर कुछ नहीं कहा गया. इस बीच आशीष मिश्र लगातार मीडिया इंटरव्यू देता रहा. पुलिस ने उससे कोई संपर्क भी नहीं किया.

लेकिन जब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का खुद ही संज्ञान लेते हुए यूपी सरकार से सीधे ये पूछ लिया कि, अब तक इस मामले में कितने लोग गिरफ्तार हुए हैं, 24 घंटे में इसकी जानकारी दीजिए… तो आनन-फानन में एक्शन शुरू हुआ. पुलिस ने पहले तो दो आरोपियों को गिरफ्तार किया, लेकिन जब मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी पर पूछा गया तो नोटिस भेजने की बात कही गई।

आशीष मिश्र के घर के बाहर नोटिस चिपकाया गया, लेकिन वो पूछताछ के लिए नहीं पहुंचा. जब पुलिस ने दूसरा नोटिस भेजा तो आशीष पूछताछ के लिए पुलिस के सामने हाजिर हुआ।

यूपी सरकार के इस रवैये से सुप्रीम कोर्ट भी खासा नराज नजर आया. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा कि क्या आप किसी अपराधी को पकड़ने के मामले में भी उसे पहले नोटिस जारी करते हैं?

दूसरी तरफ कांग्रेस के तरफ से प्रियंका गांधी, सपा से अखिलेश यादव सहित तमाम विपक्षी नेता लगातार मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी और मंत्री के बर्खास्तगी को लेकर सरकार पर दबाव बना रहे थे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here