कांग्रेस प्रत्याशी निर्विरोध हुई विजय, महाराष्ट्र में दिखी कांग्रेस की ताकत

कांग्रेस की विधानपरिषद प्रत्याशी प्रज्ञा राजीव सातव उपचुनाव में निर्विरोध चुनी गईं। महाविकास अघाड़ी ने सातव का समर्थन किया था, लेकिन भाजपा उम्मीदवारों ने सातव को निर्विरोध छोड़कर अपना नामांकन वापस ले लिया।

शरद रणपिसे के निधन के बाद रिक्त हुई विधान परिषद की जगह के लिए कांग्रेस की ओर से दिवंगत राजीव सातव की पत्नी प्रज्ञा सातव को उम्मीदवारी बनाया गया।

प्रज्ञा सातव के पति राजीव सातव का इस साल की शुरुआत में पुणे में कोविड-19 संबंधी जटिलताओं के कारण निधन हो गया था। वह कांग्रेस नेता राहुल गांधी के करीबी के रूप में जाने जाते थे और 2014-19 तक हिंगोली लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व किया था। वह 2020 में राज्यसभा के लिए चुने गए थे।

प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले, विधायक दल के नेता और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट ने बिना किसी विरोध के उपचुनाव कराने के लिए महाविकास गठबंधन की ओर से भाजपा और उसके सहयोगियों को धन्यवाद दिया।

विधायक दल के नेता और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट, प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष ए.ए. भाई जगताप, स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने विजयी प्रत्याशी डाॅ. प्रज्ञा ने सातव को बधाई दी और शुभकामनाएं दीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here