गहलोत मंत्रिमंडल में फेरबदल से पहले 3 मंत्रियों ने दिए इस्तीफे इन कारणों से हुए इस्तीफे

राजस्थान में कांग्रेस सरकार में लंबे समय से संभावित मंत्रिमंडल विस्तार से पहले सरकार के तीन मंत्रियों ने इस्तीफा दिया है माना जा रहा है यह इस्तीफा एक व्यक्ति एक पद के नियम के अनुरूप हुआ है.
रघु शर्मा,हरीश चौधरी और गोविंद डोटासरा ने अशोक गहलोत की कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

21 या 22 नवंबर को मंत्रिमंडल विस्तार और मंत्रियों का शपथ ग्रहण कार्यक्रम हो सकता है। जिससे पहले ये इस्तीफे हुए हैं। हरीश चौधरी राजस्थान के राजस्व मंत्री, गोविंद डोटासरा शिक्षा मंत्री और रघु शर्मा चिकित्सा मंत्री के पद पर थे।

अशोक गहलोत सरकार में मंत्री रघु शर्मा, हरीश चौधरी और गोविंद डोटासरा कांग्रेस संगठन में भी बड़े पदों पर हैं। गोविंद डोटासरा राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। रघु शर्मा गुजरात कांग्रेस के प्रभारी हैं तो हरीश चौधरी को कुछ दिन पहले ही पार्टी आलाकमान ने पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनाया है। मंत्री पद छोड़ने के बाद अब संगठन में ही वो पूरी तरह से काम करेंगे। कांग्रेस नेता अजय माकन माकन ने बताया है कि हरीश चौधरी, गोविंद सिंह डोटासरा और रघु शर्मा ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधीको पत्र लिखकर मंत्रीपद छोड़ने की मंशा जताई थी क्यों कि ये तीनों पूरी तरह से संगठन के काम में जुटना चाहते हैं।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल ही में पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी, अजय माकन और केसी वेणुगोपाल के साथ बैठक की थी। तब सामने आया था कि मंत्रिमंडल विस्तार में ‘एक नेता-एक पद’ के फार्मूले को अपनाया जाएगा। इसके बाद से ही सगंठन में पद संभाल रहे गोविंद डोटासरा, हरीश चौधरी और रघु शर्मा का मंत्री पद से इस्तीफा तय माना जा रहा था। इन तीन इस्तीफों के बाद अशोक गहलोत के मंत्रिमंडल में बाद 12 पद खाली हो गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here