तीनो कृषि कानूनों के वापसी के फैसले के बाद प्रियंका गांधी ने लखीमपुर खीरी मामले को लेकर मोदी पर किया आक्रमण, प्रियंका ने कहा इस नेता के साथ विराजमान मत होना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने के एलान के बाद मोदी सरकार के इस फैसले को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है।

प्रियंका ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सरकार से मांग की है कि अब यूपी के लखीमपुर खीरी में गाड़ी के नीचे कुचलकर मरने वाले किसानों के परिवारों को भी न्याय मिले.

प्रियंका गांधी ने कहा, ”लखीमपुर खीरी में किसानों के कुचलने का आरोप गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा पर लगा है. लेकिन बीजेपी सरकार आरोपी को बचाने की कोशिश में जुटी है. अगर आप (पीएम मोदी) आरोपियों के साथ मंच साझा करते हैं तो सीधा संदेश जाएगा कि आप किसानों को कुचलने वाले लोगों को संरक्षण दे रहे हैं.”

प्रियंका ने कहा, ”यह 700 से ज्यादा शहीद किसानों का अपमान होगा। अगर किसानों के प्रति आपकी नीयत साफ है तो आज लखनऊ में पुलिस महानिदेशक सम्मेलन में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के साथ विराजमान मत होना.” उन्होंने कहा, ”हम मांग करते हैं कि पीड़ित परिवारों को न्याय देने के लिए आप गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करें.” प्रियंका ने मांग की कि सरकार सभी किसानों के खिलाफ चल रहे मुकदमे वापस ले और पीड़ित परिवारों को आर्थिक मदद दे।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को घोषणा की कि सरकार ने तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने का फैसला किया है, जिसे लेकर पिछले साल से किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. उन्होंने प्रदर्शन कर रहे किसानों से घर लौटने की अपील की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ये कानून किसानों के फायदे के लिए थे लेकिन वह जनता से क्षमा चाहते हैं कि सरकार किसानों के एक वर्ग को राजी नहीं कर सकी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here