पंजाब में टिकट वितरण के लिए कांग्रेस हाईकमान ने लिया अहम फैसला, टिकट के लिए इन 3 नेताओं की सहमति होगी जरूरी

पंजाब विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ कांग्रेस में टिकट के दावेदारों की भरमार दिख रही है। कई सर्वे में कांग्रेस को बढ़त मिलता देख हर कोई कांग्रेस से उम्मीदवार बनने की कोशिश कर रहा है।

ऐसे में टिकट वितरण को लेकर कांग्रेस हाईकमान पहले से ही सचेत है और यही कारण है कि किसी एक नेता के हाथों में पार्टी हाईकमान ताकत नहीं देने जा रही है।

राज्य में कांग्रेसियों में इस बात को लेकर चर्चा चल रही थी कि टिकट लेने के लिए वह किस नेता के पीछे जाएं।प्रत्येक कांग्रेसी नेता अपने स्तर पर दावेदारों को टिकट दिलवाने का भरोसा दे रहा है।

कांग्रेस हाईकमान ने जहां पहले यह निर्णय लिया कि वह मुख्यमंत्री पद के दावेदार का नाम घोषित किए बिना चुनावी जंग में उतरेगी, वहीं उसने यह भी निर्णय लिया है कि कांग्रेस टिकट लेने के लिए तीनों प्रमुख नेताओं-मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, पंजाब कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नवजोत सिद्धू तथा पंजाब कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ की सहमति अनिवार्य होगी। अब टिकट लेने के दावेदारों ने तीनों नेताओं से मुलाकात का दौर शुरू कर दिया है।

टिकटों के बंटवारे को लेकर मैरिट को आधार बनाया जा रहा है। कोई एक विशेष नेता टिकट दिलवाने में कामयाब नहीं होगा, अगर तीनों प्रमुख नेता एक-एक विधानसभा सीट पर अपनी सहमति देंगे तो उसे अवश्य ही टिकट मिल जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here