Ashok Gehlot: आरएसएस और बीजेपी का एकमात्र एजेंडा देश को हिंदू-मुस्लिम और धर्मों के बीच बांटना

Ashok Gehlot

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और बीजेपी पर जुबानी हमला बोला है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आरएसएस और बीजेपी का एकमात्र एजेंडा देश को हिंदू-मुस्लिम और धर्मों के बीच बांटना है. रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तो यह शुरुआत है, आने वाले समय में यह लोग मुझ पर और सरकार पर और बड़े अटैक करेंगे।

मुख्यमंत्री गहलोत (Ashok Gehlot) ने भोपाल में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया के लाउडस्पीकर से जुड़े सवाल पर आए बयान पर यह प्रतिक्रिया दी. गहलोत ने कहा कि आज पूरे देश में हिंसा और तनाव का माहौल है, संविधान और कानून की धज्जियां उड़ रही हैं,अशोक गहलोत ने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में बैठक बुलाई, तब भी मैंने सुना कि उन्होंने सांसद किरोड़ी मीणा को लेकर कहा कि बाकी सांसद तो कुछ नहीं कर रहे. जो किरोड़ी मीणा करता है, वह तुम सब करो मतलब धमाल पट्टी करो, हिंसा होगी, अशांति रहेगी तो काम रुकेगा, सरकार का और विकास भी इससे रुकेगी. गहलोत ने आरोप लगाया कि इनकी सोच विकास को ठप करना है।

यूपी और एमपी में चला रहे बुलडोजर, राजगढ़ में भाजपा बोर्ड ने तुड़वाया मंदिर : गहलोत ने कहा कि करौली में जो घटना हुई, उसे हमने तो रोक दिया रामनवमी पर सब धर्मों ने मिलकर जुलूस भी निकाले, लेकिन करौली में जो उनका प्रयोग हुआ और जिस रूप में हुआ. वहीं, प्रयोग रामनवमी पर 7 राज्यों में हुआ और वहां दंगे भड़क गए. जब दंगा होता है और जो पकड़े जाते हैं, उनमें गलती करने वाले भी होते हैं और कई बार निर्दोष भी फंस जाते हैं।

गहलोत ने कहा कि करौली घटना में हो सकता है निर्दोष लोग फंस गए, तो उन्हें छोड़ देंगे, लेकिन आप निर्दोषों पर बुलडोजर कैसे चला रहे हो. मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में लोगों के घर तोड़े जा रहे हैं, क्योंकि इनका एजेंडा बहुत खतरनाक है, जिसे जनता और युवा पीढ़ी को समझना होगा.

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि गांधी जी ने कहा था कि मैं हिंदू हूं मुझे गर्व है, हम सब यही बात कहते हैं कि हमें हिंदू होने पर गर्व है, लेकिन दूसरे धर्मों का सम्मान भी करना चाहिए. यह भावना अगर सब में आ जाए, तो सब झगड़े मिट जाएंगे. गहलोत ने अलवर के राजगढ़ में तोड़े गए मंदिर के मामले में कहा कि राजगढ़ नगर पालिका में 35 में से 34 पार्षद भाजपा के हैं और भाजपा के बोर्ड में ही पालिका की बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया मंदिर भी गिराते हैं और उसे इश्यू भी बनाते हैं, क्योंकि इनका इरादा ध्रुवीकरण करने का है और कांग्रेस को बदनाम करने का है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here