रसोई गैस के बढ़े कीमत को कांग्रेस ने जनविरोधी बताते हुए वापस लेने की मांग की !

कांग्रेस ने घरेलू रसोई गैस के दाम में 50 रुपये प्रति सिलेंडर की वृद्धि को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार का ‘जनविरोधी निर्णय’ करार देते हुए बुधवार को कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों के दामों में की गई बढ़ोतरी वापस ली जाए ताकि जनता को राहत मिल सके।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया, ”भाजपा व उसके पूंजीपति मित्रों के जनता से लूट-लूट कर खाने के दांत कुछ और हैं, दिखाने के कुछ और हैं। (सरकार ने) कार्यकारिणी बैठक में गरीब कल्याण बोलकर पिछले 2-3 दिनों में आटा, अनाज, दही, पनीर पर 5 प्रतिशत ‘गब्बर सिंह टैक्स’ लगा दिया। आज रसोई गैस पर 50 रु और बढ़ा कर गरीब-मध्य वर्ग की कमर तोड़ दी।”

अखिल भारतीय महिला कांग्रेस ने भाजपा पर तंज कसते हुए ट्वीट किया, ”क्या यह महाराष्ट्र सरकार को गिराने की कीमत है?

”कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने संवाददाताओं से कहा, ” कभी महंगाई को हराने की बात करने वाले प्रधानमंत्री मोदी का महंगाई प्रेम, आज जगजाहिर है। महंगाई के प्रति इनकी गलत नीतियों की वजह से ही आज अमीर और अमीर हो गए हैं तथा गरीब और गरीब हो गए।”रागिनी ने सिलेंडर के दामों में वृद्धि को ‘जनविरोधी निर्णय करार देते हुए कहा, ”दिल्ली में आज सिलेंडर 1053 रुपये का है, लेकिन दूरदराज के इलाकों में इसकी कीमत कहीं ज्यादा है।”

उन्होंने कहा, ” मैं मोदी सरकार से पूछना चाहती हूं कि इतना महंगा एलपीजी सिलेंडर कौन खरीद सकता है? वह किसान, जिसकी आय 27 रुपए प्रतिदिन हो गई है ? या फिर वे महिलाएं जिनका घरेलू बजट महंगाई के कारण बिगड़ता जा रहा है ?”

रागिनी ने कहा, ” कांग्रेस पार्टी लगातार बढ़ती महंगाई, दैनिक जीवन की जरूरी चीजों पर जीएसटी लगाने की कवायद के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन करेगी और सड़क से लेकर संसद तक जनता जनार्दन की आवाज को उठाने का काम हम करेंगे।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस यह मांग करती रहेगी कि पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में बढ़ोतरी वापस ली जाए ताकि आम जनता को राहत मिल सके।घरेलू रसोई गैस के दाम में बुधवार को 50 रुपये प्रति सिलेंडर की वृद्धि की गई। मई महीने से एलपीजी की दरें तीसरी बार बढ़ाई गई हैं।सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों की मूल्य अधिसूचना के अनुसार बिना सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर की कीमत अब 1,053 रुपये हो गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here