उत्तराखंड : रोड शो में नही आई भीड़ तो नाराज जेपी नड्डा, आधे रोड शो से लौटे वापस

पीएम मोदी की पांच नवंबर को दून रैली के पलटवार में हुई कांग्रेस नेता राहुल गांधी की रैली की प्रचंड सफलता के बाद विजय सांकल यात्रा के माध्यम से अपने आप को तोलने में लगी भारतीय जनता पार्टी को यात्रा के दौरान हरिद्वार में एक बार फिर असहज स्थिति से दो-चार होना पड़ा। राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी वाली इस विजय संकल्प यात्रा में भाजपा कार्यकर्ता उम्मीद के मुताबिक भीड़ नहीं जुटा पाए। भीड़ का स्तर घनत्व के लिहाज से हल्का देखते हुए खिन्न हुए नड्डा ने हरिद्वार में रोड शो का नाम लिए इस यात्रा को अधूरे में ही छोड़ दिया।

भारतीय जनता पार्टी की विजय संकल्प यात्रा व रोड शो में उम्मीद के मुताबिक भीड़ नहीं जुटने पर नाराज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बीच में ही रोड शो को खत्म करके दिल्ली रवाना हो गए।

पीएम मोदी की पांच नवंबर को दून रैली के बाद हरिद्वार में जेपी नड्डा की मौजूदगी में विजय संकल्प यात्रा को चुनावी अभियान के लिहाज से बहुत खास माना जा रहा था। बीते दिनों देहरादून में आयोजित कांग्रेस नेता राहुल गांधी की रैली में उमड़ी भीड़ के बाद विजय संकल्प यात्रा के लिए भीड़ जुटाने के लिए पार्टी की ओर से बड़े-बड़े दावे भी किए गए थे। लेकिन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा हरिद्वार के पंतदीप में विजय संकल्प रैली के उदघाटन के लिए पहुँचे तो तो वहां केवल डेढ़-दो हजार लोग ही जुट पाए थे। इनमें भी काफी लोग खाना नहीं मिलने व नड्डा के देरी से आने की वजह से आयोजन स्थल से खिसक लिए। जिससे पंतद्वीप में विजय संकल्प यात्रा को हरी झंडी दिखाने के बाद आहूत रोड शो में लोगों की संख्या और कम हो गयी। रोड शो में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, पूर्व सीएम निशंक, स्वामी यतीश्वरानंद के अलावा हरिद्वार जनपद के भाजपा विधायक शामिल हुए।

राष्ट्रीय अध्यक्ष स्तर के नेता के कार्यक्रम में इतनी कम भीड़ देखकर जेपी नड्डा ललतारो पुल के बीच में संबोधन कर रोड शो को खत्म कर वापस दिल्ली चले गए। रोड शो के अचानक समापन से कई भाजपा समर्थक मायूस भी हुए। जबकि पहले से तय समापन स्थल शिवमूर्ति चौक पर भाजपा कार्यकर्ता जेपी नड्डा का इंतजार कर रहे थे। रोड शो हरकी पैड़ी से शिवमूर्ति चौक तक होना था। हालांकि, बाद में निशंक व कौशिक शिवमूर्ति चौक तक पहुंचे। नड्डा के कार्यक्रम का हरिद्वार से सांसद व पूर्व सीएम निशंक, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक व कैबिनेट मंत्री यतीश्वरानंद मुख्य रूप से प्रतिनिधित्व कर रहे थे। कार्यक्रम के बाद नेता एक दूसरे के सिर और ठीकरा फोड़ते नजर आ रहे थे। हरिद्वार भाजपा के लिए यह प्रकरण खतरे की घण्टी माना जा रहा है। विजय संकल्प यात्रा व रोड शो में अपेक्षित भीड़ नहीं जुटने को लेकर भाजपा दिग्गजों के बीच जारी शीत युद्ध को अहम कारण माना जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here